2023 ग्रेच्युटी के नए नियमों के बारे में सब कुछ

एक कर्मचारी काम और कंपनी के प्रति अपने योगदान के बदले में ग्रेच्युटी प्राप्त करता है। किसी कंपनी में एक तय समय तक काम करने के बाद, एक कर्मचारी नियोक्ता से ग्रेच्युटी के रूप में अपने वफादारी और समर्पण के लिए भुगतान की उम्मीद कर सकता है। ग्रेच्युटी कम से कम 5 वर्षों तक कंपनी के साथ काम करने के प्रयासों और समर्पण को सम्मानित करने के लिए, नियोक्ता का एक तरीका होता है। भारत में ग्रेच्युटी भुगतान अधिनियम, 1972, ग्रेच्युटी के भुगतान को सुचारू रूप से चलाने के लिए बनाया गया। इस अधिनियम के तहत, नियोक्ता उन सभी कर्मचारियों को एक राशि का भुगतान करने के लिए उत्तरदा...

और पढ़ें

भारत के महत्वपूर्ण औद्योगिक कानून

भारत में औद्योगिक क्षेत्र उसके आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। औद्योगिक क्षेत्र GDP का एक प्रमुख योगदानकर्ता है और लाखों लोगों को रोजगार प्रदान करता है। हर एक श्रमिक को अपने अधिकारों की सुरक्षा हेतु बनाए गए कानूनों के बारे में जानकारी होनी चाहिए। औद्योगिक कानून सार्वजनिक और निजी दोनों क्षेत्रों में नियोक्ताओं और कर्मचारियों के बीच संबंधों का प्रबंधन करता है।औद्योगिक कानून औद्योगिक विवाद, अनैतिक बर्खास्तगी, व्यावसायिक स्वास्थ्य और सुरक्षा एवं व्यापार संघों को शामिल करता है। औद्योगिक कानून की उत्पत्ति अंग्रेज़ी क़ानून के 'औद्योगिक उपाय' के ...

और पढ़ें